You are currently viewing Bhoot Bangla

Bhoot Bangla

  • Post published:October 13, 2021
  • Post category:Stories
  • Reading time:1 mins read

Bhoot Bangla: रात के करीब 2 बजे थे, एक 25-30 साल की औरत रास्ते में ऑटो का इंतजार कर रही थी। रात काफी हो चुकी थी, और वह अकेली भी थी। कुछ देर इंतजार करने के बाद उसे एक ऑटो आता हुआ दिखाई देता है। वह ऑटो रोकने के लिए अपना हाथ दिखाती है, सड़क पर सवारी देख ऑटो ड्राइवर उस औरत के पास जाकर ऑटो रोक देता है।

ऑटो ड्राइवर ने पूछा: कहाँ जाना है मेडम ?
औरत: अजय नगर जाना है।

ऑटो ड्राइवर ने अपना फ़ोन निकाला और मेप पर अजय नगर ढूंढने लगा क्योकि वो इस शहर में नया आया था। अजय नगर वहां से करीब 10 किमी था।

ऑटो ड्राइवर ने बोला: मेडम 300 रुपये किराया लगेगा अजय नगर तक का।
औरत ने बोला: नहीं, सिर्फ 100 रुपये लगते है अजय नगर तक के मै रोज जाती हूँ।

ऑटो ड्राइवर ने कुछ देर सोचा और बोला बैठिये मेडम छोड़ देता हूँ। वह औरत ऑटो में पीछे की सीट पर जाकर बैठ गयी। ऑटो अजय नगर की ओर निकल पड़ता है।

करीब 3-4 किमी चलने के बाद ऑटो ड्राइवर सामने वाले शीशे में पीछे बैठी हुई औरत को बार-बार देख रहा था। वह औरत भी काफी देर से उसकी इस हरकत को देख रही थी। तभी उस औरत का फोन बजता है, जिस पर उसके किसी दोस्त की कॉल आरही थी। वह फ़ोन उठाती है और बोलती है।

Bhoot Bangla

हेलो जानवी !

जानवी: यार, आज में तेरे घर नहीं आ सकती हूँ।
ऑटो में बैठी औरत ने बोला: क्यों क्या हुआ , तुझे तो पता है मेरे पति घर पर नहीं है। वह कुछ दिनों के लिए बहार गए हुए है। और मुझे घर पर अकेले दर लगता है।

जानवी: प्लीज यार, आज थोड़ा काम लग गया है कल से आ जाऊँगी।
ऑटो में बैठी औरत ने बोला: ठीक है तो फिर !

ऑटो ड्राइवर ये सब बातें सुन रहा था। अब उसे पता चल गया था कि वह औरत आज रात अपने घर पर अकेली है, और उसकी सहेली ने भी आने से मना कर दिया है।

करीब 5 -6 किमी और चलने के बाद उस औरत ने ऑटो ड्राइवर को सामने दिखाई दे रहे एक बंगले के सामने ऑटो रोकने के लिए बोला ।ऑटो ड्राइवर ने बंगले के सामने ऑटो रोक दिया। वह बांग्ला एक बहुत बड़े और सुन्दर महल के सामान दिखाई दे रहा था।

जैसे ही ऑटो रुका, वह औरत ऑटो से तुरंत उतर गयी। उसने अपना पर्स निकला, और जैसे ही उसने किराये के 100 रुपये देने के लिए उसने अपना हाथ आगे किया।

ऑटो ड्राइवर ने उसे अकेला देख उसका हाथ पकड़ लिया। ऑटो ड्राइवर की इस बत्तमीजी को देख वह औरत अपना हाथ छुड़ाकर अंदर की ओर अपने बंगले में चली गयी। अंदर पहुंचते ही उसने दरवाजा बंद कर लिया।

ऑटो ड्राइवर मुस्कराया और अपना ऑटो मोड़कर वापस शहर की ओर चलने लगा। कुछ दूर चलने के बाद उसकी निगाह सामने शीशे में दिखाई देरही शीट पर पड़ी। वहाँ उसे एक फ़ोन दिखाई दे रहा था।

Bhoot Bangla

ऑटो ड्राइवर ने तुरंत ऑटो रोका और उसने पीछे की शीट पर देखा। उसने फ़ोन को अपने हाथ में उठाया और देखने लगा। वह करीब 15 से 20 हजार रुपये का फ़ोन लग रहा था। फिर उसे ध्यान आया की यह फ़ोन तो उसी औरत का है जिसे वह अभी बंगले पर छोड़कर आया है। क्योकि जब वह औरत अपनी सहेली से बात कर रही थी तो वह सामने वाले शीशे में उसे देख रहा था।

उसने फ़ोन को देखा फ़ोन बंद था। उसने सोचा अभी तो वह औरत इससे बात कर रही थी। शायद इसकी बैटरी ख़त्म होने की वजह से फ़ोन बंद हो गया होगा।

फिर उसके दिमाग में एक योजना आयी। फ़ोन वापस देने के बहाने उस औरत के पास जाने की। क्योकि वह घर पर अकेली होगी इसलिए उसके यहाँ चोरी करने की। उसके घर का सारा सामान, कीमती वस्तु, पैसे, गहने आदि जो भी मिले सब कुछ लूट कर भागने की योजनायें उसके मन में आने लगी।

उसने तुरंत अपना फ़ोन निकाला और अपने दोस्त को कॉल लगाई। और उसे उस औरत की पूरी जानकारी दी। और अपने प्लान के बारे में बताया। उसका दोस्त ऑटो ड्राइवर की बात सुनकर उसके साथ प्लान में शामिल होने को राजी होगया।

ऑटो ड्राइवर ने उसे उस औरत के घर का पता बताया और उसे सीधे वही आने को कहा। दोस्त को सबकुछ बताने के बाद उसने फ़ोन रखा और औरत के घर की तरफ ऑटो मोड़कर चल दिया।

ऑटो ड्राइवर ने उसे उस औरत के घर के पास अपना ऑटो रोक दिया और अपने दोस्त के आने का इन्तजार करने लगा।

उसे इन्तजार करते करते करीब 20 से 30 मिनट होगए। पर उसका दोस्त अभी तक नहीं आया था। उसने अपने दोस्त को कई बार फ़ोन लगाया। लेकिन वो फ़ोन नहीं उठा रहा था।

कुछ समय और उसका इन्तजार करने के बाद जब उसका दोस्त नहीं आया तो उसने अपने दोस्त को मैसेज किया। कि वो घर के अंदर जा रहा है तुम्हारे लिए घर का दरवाजा खुला छोड़ देगा आजाना ठीक है।

दोस्त को मैसेज करने के बाद वह अपने ऑटो से चाकू निकलकर घर के दरवाजे के पास जाकर खड़ा हो गया। फिर दरवाजे के पास लगी हुई डोरवेल को बजाया।

Bhoot Bangla

उसने फिर से डोरवेल बजाई, लेकिन अंदर से कोई जबाब नहीं आया। इसी तरह डोरवेल बजाई लेकिन अंदर से कोई जबाब न मिलने के कारण उसने दरवाजे में जोर से धक्का दिया।

जिससे दरवाजा खुल गया ऑटो ड्राइवर दरवाजा खुलते ही अंदर चला गया। वह एक बड़े से हॉल में था जहाँ उसे कोई नहीं दिखाई दिया।

सिर्फ दूसरी मंजिल पर जाने के लिए उसे सीढ़ियां दिखाई थी। बिना देरी किये वो सीढ़ियों से तुरंत ऊपर वाली मंजिल पर पहुंच गया। दूसरी मंजिल पर काफी कमरे थे।

सभी कमरे बंद थे सिर्फ एक खुला हुआ था जिसमे लाइट जली हुई थी। वह तुरंत अंदर गया। लेकिन कमरे में कोई नहीं था। वह सोचने लगा के आखिर वो औरत गयी कहाँ। न तो वह नीचे थी और न ही उसे ऊपर दिखाई दी।

तभी उसे बाथरूम से पानी गिरने की आवाज सुनाई दी। ऑटो ड्राइवर बोला लगता है वो औरत बाथरूम में नहा रही है। इसीलिए उसे डोरवेल की आवाज सुनाई नहीं दी थी।

वह मन ही मन में मुस्कराया और बाथरूम की ओर धीरे धीरे चल कर बाथरूम के दरवाजे के पास जाकर हाथ में चाकू लिए खड़ा हो गया। कि जैसे ही वो औरत बाहर निकलेगी वह उसके गर्दन पर चाक़ू रख देगा।

तभी अंदर से बाथरूम का दरवाजा खुलने की आवाज आई। ऑटो ड्राइवर हाथ में चाकू लेकर तैयार हो गया। बाथरूम का दरवाजा खुला पर कोई बहार नहीं आया। बाथरूम के पास खड़े ऑटो ड्राइवर ने औरत के बाहर निकलने का इंतज़ार किया। काफी देर होगयी पर अभी भी कोई बाहर नहीं आया।

फिर उसने सोचा के अब उसे अंदर ही जाना चाहिए। जैसे ही वह अंदर गया, तो अंदर का नजारा देख उसके पसीने छूट गए, उसके पैरों तले जमीन खिसक गयी, उसके पैर काँपने लगे, वह बहुत घबरा गया।

बाथरूम में लाशों का ढेर लगा हुआ था। जिनमे से बहुत बदबू भी आरही थी लाशों पर मक्खियॉं भिनभिना रही थी। इस भयानक नज़ारे को देख वो पीछे बाहर की ओर भागा।

पर जैसे ही वो बाथरूम के दरवाजे के पास पहुंचा, उसे किसी ने सामने से जोर से धक्का दिया। जिससे वह बाथरूम में पड़े लाशों के ढेर पर जा गिरा। और एक साथ झटके से बाथरूम का दरवाजा बंद हो गया।

वह बहुत घबरा गया और तुरंत उठ कर दरवाजे की तरफ दौड़ा और दरवाजा खोलने की कोशिश करने लगा।

उसने दरवाजा खोलने के सम्पूर्ण प्रयास किये पर दरवाजा नहीं खुला, फिर उसने दरवाजे को जोर जोर से पीटना शुरू किया और चिल्लाने लगा मेडम दरवाजा खोलो मुझे बाहर आने दो।

काफी देर दरवाजा पीटने और चिल्लाने के बाद वह थक कर बाथरूम के दरवाजे के पास ही बैठ गया। और सोचने लगा की उस औरत ने उसे जान बूझकर बाथरूम में बंद किया है।

ऑटो ड्राइवर फिर से उठा और उसने फिर से दरवाजा खोलने के सम्पूर्ण प्रयास किये लेकिन फिर भी दरवाजा नहीं खुला, फिर से उसने दरवाजे को जोर जोर से पीटना शुरू किया और चिल्लाने लगा मेडम दरवाजा खोलो मुझे बाहर आने दो, मेडम मुझे माफ़ करदो, मुझसे गलती होगयी।

Bhoot Bangla

वह वही बैठ कर रोने लगा पर दरवाजा नहीं खुला। फिर उसकी निगाह बाथरूम में पड़ी हुई लाशों पर गयी। उसने गौर से देखा तो वे सभी लाशें ऑटो ड्राइवर्स की थी। सभी ने एक सामान ऑटो ड्राइवर वाले कपडे भी पहने थे।

फिर उसने अपनी जेब से अपना फ़ोन निकाला और अपने दोस्त को कॉल करने की कोशिश की पर उसके फ़ोन में नेटवर्क नहीं थे। फिर उसने उस औरत वाले फ़ोन को निकाला वह भी बंद था।

ऑटो ड्राइवर बहुत ही घबराया हुआ था। वह बाहर निकलने के लिए इधर उधर कोई रास्ता देखने लगा, फिर भी निराशा ही मिली क्योकि बाथरूम चारों तरफ से बंद था सिर्फ एक ही दरवाजा था उससे बाहर निकलने का और वो बंद था।

फिर उसने बाथरूम के एक कोने में रखे बाथटब को देखा। उसने सोचा की वहां उसे दरवाजा तोड़ने का शायद कोई सामान मिल जाये। जैसे ही वह उसके पास गया तो उसके होश उड़ गए।

बाथटब में मोबाइलों का ढेर लगा हुआ था और सब के सब मोबाइल एक ही जैसे थे जैसे उस औरत का मोबाइल था जो इस वक्त उसके हाथ में था।

अब वह समझ गया था कि वह अब उस औरत के जाल में फँस गया है। उस औरत का लिफ्ट मांगना, जानबूझ कर मोबाइल छोड़ना यह सब उसकी चाल थी।

वह औरत कौन थी और ऐसा क्यू कर रही थी ?
उसने ऑटो ड्राइवर्स के साथ ऐसा क्यों किया ?
क्या वह ऑटो ड्राइवर वहाँ से बचकर निकल पायेगा ?

इन सभी सवालों के जबाब जानने के लिए इस कहानी का अगला भाग जरूर पढ़ें।

Bhoot Bangla – Part 2 Coming Soon…

Haunted Book  सीरीज की कहानियाँ भी पढ़ें:

नागिन सीरीज की कहानियाँ भी पढ़ें:

और भी कहानियाँ पढ़ें: 

Read Biography:

Hathrasnews.com: Visit for Latest News Updates

Share this post if you found helpful!