You are currently viewing Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3 – कैलाश और उसकी पत्नी को रहने के लिए एक घर की आवश्यकता थी। फिर एक दिन उन्हें कॉल आया कि एक बहुत ही शानदार बांग्ला बिकाऊ है बहुत ही काम दामों में।

कैलाश को उस बंगले के बारे में ठीक से जानकारी नहीं थी और उन्हें यह कम दाम में इतना बड़ा बंगला मिल गया था, जिससे उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था।

यह बिल्कुल सच था कि बंगला बहुत बड़ा था। इस बंगले के चारों ओर बड़े-बड़े पेड़ थे। मानो पूरा बंगला जंगल में समा गया हो। बंगले की दीवारों पर लगा प्लास्टर इधर-उधर से उखड़ हुआ, बेलें बंगले की छत के ऊपर पहुंच गईं, जिससे बंगला और भी डरावना लग रहा था।

अगर अपने Haunted Book के पहले 2 भाग नहीं पढ़े है तो उन्हें भी पढ़े:

कैलाश की पत्नी जिसका नाम प्रेमलता था। उसे भी यह बंगला बहुत पसंद आया, वह जानता था कि इस बंगले को साफ करने की जरूरत है। उसके बाद यह और भी अच्छा दिखेगा, क्योंकि हमें इतना बड़ा बंगला मिला है।

इससे दोनों बहुत खुश हुए। लेकिन उन्हें इस बंगले की हकीकत का जरा भी अंदाजा नहीं था कि यह बंगला कितना खतरनाक है। कुछ दिनों तक उन्होंने बंगले को अच्छी तरह से साफ किया और रहने योग्य बना दिया।

एक बार की बात है जब कैलाश काम से अपने घर आ रहे थे तो रास्ते में उनकी मुलाकात एक बूढ़ी औरत से हुई और उनसे कहने लगे कि लगता है तुम उसी बंगले में रहते हो, जल्द से जल्द चले जाओ यह कहकर कि वहाँ से चली गयी।

कैलाश को बूढ़ी औरत की बातों पर विश्वास नहीं हुआ, उसने सोचा कि शायद यह कोई पागल औरत है जो ऐसी बात कर रही है।

उस दिन वह घर बापस आने के बाद रात को बिस्तर पर नहीं सो सका, वह इधर-उधर हाथ-पैर बदल रहा था। कैलाश उस बूढ़ी औरत की बातों के बारे में सोचने लगता है।

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

जब उसे नींद ही नहीं आई तो वह पलंग से उठाकर छत पर चला गया, रात का समय था और चारों तरफ अँधेरा था। नींद न आने के कारण कैलाश इसलिए खुली हवा में छत पर चला गया। कुछ देर बाद अचानक उसे लगा कि सीढ़ियों से कोई काली परछाई है।

कैलाश घबराया और उसने अपनी आँखें मलना शुरू किया, और उसके बाद उसने देखा कि वहाँ कोई नहीं है। उन्हें लगा कि शायद यह मेरी थकान की वजह से है, अब मुझे सो जाना चाहिए, और वे सोने के लिए अपने कमरे में चला गया।

लेकिन फिर भी उसकी आँखें खुलीं हुई थी, रात की बजह से चारों ओर अँधेरा था। खिड़की पर रखा हुआ दीया कुछ ही रोशनी दे रहा था लेकिन फिर भी कमरे में अंधेरा था।

अचानक उसने अपनी छत पर किसी के चलने की आवाज़ सुनी, कैलाश को आश्चर्य हुआ कि यह कौन हो सकता है और देखने के लिए ऊपर चला गया।

लेकिन ऊपर कोई नहीं था, तभी कैलाश ने अपनी जेब से माचिस निकल कर जलाई और इधर-उधर देखने लगे। तभी कैलाश को छत पर कोने में एक बक्सा दिखाई दिया जिसमें ताला लगा था।

छत पर रखे उस बक्से को देख कैलाश चौक गया, क्योकि जब वह कुछ देर पहले वह छत पर आये था तब तो वहां कुछ नहीं था। फिर ये अचानक कैसे आया। उसने सोचा आखिर ये बक्सा किसका हो सकता है इसे खोलू या नहीं, बक्से में ताला लगा था जिसकी चाभी उनके पास नहीं थी।

काफी देर सोचने और आस पास देखने के बाद उसने बक्सा खोलने की सोची। कैलाश ने ताला तोड़ा, ताला टूटने की आवाज सुनकर उसकी पत्नी प्रेमलता भी जाग गई और ऊपर छत पर आ गई।

वह कैलाश से पूछने लगी कि तुम इतनी रात में ऊपर क्या कर रहे हो और यह किसका बक्सा है। कैलाश ने कहा शांत हो जाओ और देखते बक्से में क्या है।

कैलाश ने छत पड़े हुए पत्थर से बक्से का ताला तोड़ दिया और बक्सा खोला। बक्सा खोलते ही दोनों की आंखें फटी की फटी रह गई, उस बक्से में बहुत सारे सोने चांदी के जेवर, सिक्के थे।

कैलाश और उसकी पत्नी प्रेमलता को अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हुआ कि इस बक्से में इतना कुछ था। उन्होंने तय किया कि हम आज रात बिना किसी को बताए ये सब लेकर यहां से निकल जाएंगे।

और वो लोग रात में ही बंगले के पीछे के रस्ते से जंगल की ओर निकल गए। रात के अँधेरे और सन्नाटे में दोनों बंगले से काफी दूर निकल गए थे। सुबह होने वाली थी और वे अभी तक जंगल पर नहीं कर पाए थे।

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

कैलाश ने सोचा कि अगर किसी ने मेरे हाथ में यह बक्सा देख लिया तो शायद उसे शक हो सकता है। इससे पहले कोई इसे देखे, मैं इस बॉक्स को कहीं छिपा देता हूं। कैलाश ने एक गड्डा किया और उसने उस बॉक्स को गड्ढे में रख कर उसे मिट्टी से ढक दिया।

कुछ ही दूरी पर एक घर था, जिसमें दोनों रहने के लिए आश्रय तलाशने लगे, वह घर भी एक बूढ़े आदमी का था, उसने उन्हें रहने के लिए एक कमरा दिया।

कैलाश ने सोचा कि बस कुछ ही दिनों की बात है। उसके बाद हम इस जगह को छोड़कर यहां से कहीं दूर चले जाएंगे। उस दिन वे दोनों घर से बाहर नही निकले और रात को जब सोने के लिए बिस्तर पर गए तो इस बार प्रेमलता को नींद नही आ रही थी। उस घर में लालटेन जल रही थी। जिसके कारण कमरे थोड़ी रोशनी ज़रूर थी।

कैलाश भी प्रेमलता के सिरहाने ही सोये हुए थे। धीरे धीरे प्रेमलता की भी आंख लग गयी। अचानक आधी रात को जब प्रेमलता की आंखें खुली तो उसके होश उड़ गए, वह बहुत घबरा गयी।

प्रेमलता ने देखा कि उसके सामने एक लंबी सी औऱत खड़ी है जो ढेर सारे गहने और जेबरात पहनी हुई है और उसका एक पैर कटा हुआ है। और बहुत ही भयानक सकल है, लम्बे लम्बे बाल है।

वो प्रेमलता से कह रही थी वो गहने मेरे हैं। जो तुम दोनों ने चुराए हैं मुझे मेरा बक्सा चाहिए नहीं तो में तुम दोनों को जान से मार दूंगी। यह सुन प्रेमलता जोर से चिलाने लगी, लेकिन वह इतना घबरा गयी थी कि उसकी आवाज भी नहीं निकल रही थी।

जब वह औरत उसके सामने से अचानक गायब हो गयी तो प्रेमलता घबराहट की वजह से बेहोश होगयी। कुछ समय बाद जब उसकी फिर से आँख खुली तो वह जोर से चिल्लाई।

जिसकी वजह से कैलाश की भी नींद खुल गयी उन्होंने प्रेमलता से पूछा कि क्या हुआ | तो प्रेमलता ने घबराते हुए सारी बात कैलाश को बतायी, कैलाश को उसकी बातों पर यकीन नही हुआ।

उसे लगा कि वो कोई बुरा सपना देखी होगी और डर गई। कैलाश ने उसको कहा कि चलो अब सो जाओ हम कल बात करेंगे। जब सुबह हुई तो कैलाश ने देखा कि प्रेमलता मर चुकी है यह देख कैलाश पीछे की ओर गिर गया।

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

अब उसे इस बात का एहसास हुआ कि रात को जो प्रेमलता कह रही थी वो बिल्कुल सच बात थी। कैलाश को बहुत दुःख हुआ, वह अपने आपको संभाल नहीं पा रहा था। क्योकि उसके लालच की बजह से उसकी पत्नी की जान चली गयी।

तभी अचानक से दरवाजा खटखटाने की आवाज आती है। जिसे सुनकर कैलाश के हाथ में रखी हुई किताब नीचे जमीन पर गिर जाती है। वह बहुत घबराया हुआ था।

कैलाश: कौन है ?
बहार दरवाजे पर खड़े हुए लोगो में से एक व्यक्ति बोलता है: आपको यहाँ नहीं आना चाहिए था।

कैलाश अपने आपको वापस उसी बंगले में पाकर और जयदा घबरा जाता है। कि आखिर ये सब हो क्या रहा है। मै यहाँ कैसे वापस आगया और मेरी पत्नी प्रेमलता कहा है।

वह दौड़कर दरवाजे के पास जाता है और दरवाजा खोलता है। सामने खड़े हुए लोग उसकी हालत देख उसे बंगले से बाहर ले आते हैं। पीछे से उसकी पत्नी भागती हुई आती है। और उससे लिपट जाती है।

उसने अपने साथ हुई घटना की सारी बात लोगों को बतायी। कैलाश के साथ हुई घटना को सुन कर लोगों ने बताया कि आपको इस घर में नहीं आना चाहिए था।

Haunted Book: The Mysterious Box | Chapter 3

यहाँ लोगो को अजीब अजीब चीजों के होने का अहसास होता है। कभी कोई डरावनी किताब दिखाई देती है तो कभी एक लकड़ी का छोटा बक्सा।

तभी कैलाश अचानक से बोलता है कि इस घर की सफाई करते वक्त नीचे के तहखाने में एक बक्सा देखा था। जिस पर बहुत सरे मकड़ी के जाले और काफी धूल जमी हुई थी।

मैंने उसे देखा तो उस पर लगे जाले और धूल हटते वक्त उस पर कुछ तंत्र मंत्र जैसे चीजें भी हटा दी। जब मैंने उस बक्से को खोला तो उसमे एक किताब थी। जिस पर “Haunted Book” लिखा हुआ था।

तभी लोगों की भीड़ के पीछे बैठी हुई बूढ़ी औरत ने पूछा कही तुमने उसे पड़ा तो नहीं –
कैलाश ने बोला: हां पढ़ी थी, बक्से से निकालकर मै उसे अपने कमरे में ले आया और उसे पढ़ने के लिए बैठ गया। जब मैंने किताब को खोला तो उसमे पहले 2 पाठ नहीं थे। उसमे सीधा तीसरा पाठ था।

कैलाश की सारी बातें सुनकर सामने बैठी बूढ़ी औरत वहां से उठकर बाहर की और चलना शुरू कर देती है। कैलाश उन्हें देखकर पहचान लेता है कि यह तो वहीं है जिन्होंने एक दिन उसे इस घर को छोड़कर जाने के लिए कहा था।

कैलाश उन्हें रोखता है और पूछता है कि वो आखिर किस तरह की किताब है। और उससे बचने का कोई उपाय और क्या है उसका रहस्य। कैलाश की बात सुन कर बूढ़ी औरत रुक जाती है।

कैलाश के साथ साथ वहाँ उपस्थित साथी लोगो की जुबान पर यही सवाल थे। क्योकि लोगो ने Haunted Book के बारे में काफी बातें सुनी थीं।

जब उस बूढ़ी औरत ने बताया कि Haunted Book एक ऐसी जादुई और डरावनी कहानियों की किताब है। जिसको पढ़ने वाले की ज़िन्दगी उसी तरह से चलती है जैसा उसमें होता है।

जब किसी अध्याय का अंत होता है तो वह वापस वहीं आजाता है। फिर उस Haunted Book से वह अध्याय गायब हो जाता है। कैलाश बोलता है जब मैंने Haunted Book को खोला था तो उसमे पहले 2 अध्याय नहीं थे।

तभी बूढ़ी औरत बोलती से इसका मतलब आपसे पहले भी 2 अध्याय कोई पढ़ चुका और अब तीसरा अध्याय भी गायब हो चुका होगा।

कैलाश बोलता है: क्या इससे बचने का कोई उपाय है।
बूढ़ी औरत: नहीं , बस अगर किसी को Haunted Book मिल जाये तो उसे कभी पढ़ना मत।

यह कहकर बूढ़ी औरत वहां से उस Haunted Book को लेकर वहाँ से गाँव छोड़कर चली जाती है। कुछ दिनों बाद पता चलता है कि एक एक्सीडेंट में उसकी मृत्यु होगयी। Haunted Book का भी कोई पता नहीं , शायद वो अपना नया शिकार ढूंढ रही हो।

अगर अपने Haunted Book के पहले 2 भाग नहीं पढ़े है तो उन्हें भी पढ़े:

नागिन सीरीज की कहानियाँ भी पढ़ें:

और भी कहानियाँ पढ़ें: 

Read Biography:

Hathrasnews.com: Visit for Latest News Updates

Share this post if you found helpful!