You are currently viewing Haunted Book: Chapter 1 – Musaafir

Haunted Book: Chapter 1 – Musaafir

Haunted Book: Chapter 1 – Musaafir | क्या हो अगर आपको कभी कोई ऐसी किताब मिल जाये। जिसे पड़ने वाले की ज़िन्दगी अचानक किताब की कहानी से जुड़ जाये। आपके साथ भी ऐसा हो जैसा कहानी में हो रहा है। इस किताब की कहानी कुछ ऐसे ही है।

Haunted Book: Chapter 1 – Musaafir

कहानी की शुरुआत में एक पिता अपने बेटे को लेकर सुनसान सड़क पर अकेले चले जा रहे हैं। इनके पास एक ट्रॉली है, जिसमें इनकी जरूरत का सामान है।जैसे खाना, कपडे, पानी आदि।  इन दोनों की हालत बहुत ज्यादा खराब है। इस दुनिया को देखकर ऐसा लगता है, कि पूरी दुनिया में सिर्फ यही दोनों बचे हैं। क्योंकि इनके आस पास ना इंसान, ना गाड़ियां और ना ही हरियाली है। लेकिन यह सच नहीं है। इस दुनिया में ऐसे लोग भी हैं जो आदमखोर हैं। यानी जो इंसानों को खा जाते हैं।

क्योंकि धरती पर अब कोई फसल नहीं होती। कोई जानवर नहीं बचा है। इसलिए इंसान को अपने आप को बचाने के लिए दूसरों को खाना पड़ता है। जो लोग ऐसा नहीं कर पाएं, या तो वह भूख से मर गए, या उन्हें अपनी जान देनी पड़ी।

सड़क पर एक पिता और उसका बेटा एक सफर पर है। इन्हें अपने आप को आदमखोर लोगों से बचाना है। साथ ही साथ अब दुनिया में ठंड बहुत ज्यादा है। इसलिए हमेशा इन्हें गर्म कपड़े पहन कर रखने पड़ते हैं।

Haunted Book: Chapter 1 - Musaafir

डेविड रास्ते में अपने बेटे के साथ एक जगह रुक जाता है। डेविड के पास रिवाल्वर है जिसमें दो गोलियां हैं। वह अपने बेटे से पूछता है, कि तुम्हें याद है ना इसे कैसे चलाना है। अब अपने बेटे को बताता है, कि तुम्हें अपने आप को मारना हो तो क्या करना होगा। गन को अपने मुंह में डालना होगा और सिर्फ ट्रिगर को दबाना होगा।

इससे तुम्हारी जान चली जाएगी। इसके बाद वह अपने बेटे को अपने गले से लगा लेता है। डेविड गाड़ी में एक दिन अपने बेटे के साथ सो रहा होता है। तभी उसे एक गाड़ी की आवाज आती है। वह देखता है कि सामने से ट्रक आ रहा है। जिसमें बहुत सारे लोग हैं। सबके पास हथियार है।

डेविड अपने बेटे के साथ ढलान के नीचे छुप जाता है। तभी इन लोगों का ट्रक खराब हो जाता है। इन्हीं लोगों में से एक आदमी उस जगह पर जाता है जहां पर डेविड अपने बेटे के साथ छुपा हुआ है। वहां पर टॉयलेट करने के लिए आता है। वह डेविड और उसके बेटे को देख लेता है।

डेविड उस आदमी के ऊपर गन तान देता है। वह कहता है कि अगर तुम ने पीछे मुड़कर देखा तो मैं तुम्हें गोली मार दूंगा। डेविड उससे पूछता है कि तुम क्या खाते हो। वह आदमी बोलता है कि हमें जो भी मिल जाए खा जाते हैं।

इसका मतलब यह है कि यह आदमखोर है।वह आदमी बोलता है कि तुम्हें देखकर ऐसा लगता है कि तुमने कभी किसी इंसान को नहीं मारा।

डेविड कहता है कि हां लेकिन मैं अपने बेटे के लिए किसी को भी मार सकता हूं। वह आदमी बार-बार डेविड के बेटे को देख रहा होता है। तभी वह अपनी जेब से चाकू निकालकर डेविड के बेटे की गर्दन पर रख देता है।

डेविड कहता है कि मेरे बेटे को छोड़ दो। लेकिन वह उसके बेटे को नहीं छोड़ना चाहता है। डेविड अपनी रिवाल्वर से उस आदमी को शूट कर देता है।

गोली की आवाज सुनकर उस आदमी के जितने भी साथी होते हैं दौड़ कर उधर जाते हैं। लेकिन जबतक डेविड अपने बेटे को लेकर भाग जाता है। और एक जगह छुप जाता है। जिससे वह उन आदमियों से बच जाता है।

डेविड अपने बेटे को कहता है, कि तुम चिंता मत करो मैं तुम्हारे साथ हूँ और तुम्हें  कुछ नहीं होने दूँगा ।

हालांकि डेविड अपने बेटे को मारने की कोशिश भी करता है। लेकिन उसके अंदर इतनी हिम्मत नहीं है कि वह अपने मासूम बेटे को मार सके। वह अपने आप को कब का मार देता। ऐसी दुनिया में जो नर्क से भी बदतर है कोई भी इंसान नहीं जीना चाहता।

वह जिंदा है तो सिर्फ अपने बेटे के लिए। डेविड और उसका बेटा वहीं पर छुपकर काफी देर तक इंतजार करते हैं। इसके बाद वह उसी गाड़ी के पास आते हैं जहां पर उन्होंने रात बिताई थी। क्योंकि उनकी ट्रॉली भी वहां पर थी। लेकिन इनका सारा सामान वह लोग यहां से ले जा चुके हैं। अब इनके पास कुछ भी नहीं है। क्योंकि उसी ट्रॉली में इनका बचा हुआ खाने का सामान था।

दोनों वहां से आगे जाते हैं और पूरा दिन चलने के बाद यह एक फ्लाईओवर के पास पहुंचते हैं। जहां के बीचोबीच एक ट्रक खड़ा होता है। आज रात इन्हें यहीं पर गुजारनी होगी।

अगली सुबह डेविड उठता है। उसके पास एक अंगूठी होती है। उसे अपनी पत्नी की याद आती है। उसे वह दिन याद आता है जब डेविड का बेटा पैदा हुआ था। यह वह वक्त था, जब धरती खत्म होना शुरू हुई थी। वास्तव में धरती के सतह पर बहुत सारे बदलाव आए थे। इसीलिए धरती पर जानवर बढ़ना शुरू हो गए। धीरे धीरे फसलें खत्म हो गई। इंसान एक दूसरे को मारकर खाने लगे।

लेकिन डेविड का परिवार ऐसा नहीं करना चाहता था। इनके पास जो बचा खुचा खाना था उसी के सहारे यह लोग जिंदगी जी रहे थे। एक उम्मीद के साथ कि कभी ना कभी यह सब कुछ ठीक हो जाएगा। लेकिन धीरे-धीरे वक्त बीतता गया।

जब डेविड का बेटा बड़ा हो गया, एक दिन जब डेविड के घर में एक आदमी इन सब को मारने के लिए आया, तो डेविड ने उसे गोली मार दी।

दरअसल इनके पास तीन गोलियां थी। लेकिन अब इनके पास दो ही गोलियां बचती हैं। डेविड की पत्नी कहती है, कि हम सबको अपने आप को खत्म कर देना चाहिए था। क्योंकि आज नहीं तो कल वह लोग हमारे घर के अंदर घुस जाएंगे।

अभी तुम्हारी आंखों के सामने मुझे और मेरे बच्चे को मार देंगे। और इसके बाद हमें खा जाएंगे। डेविड कहता है कि नहीं हमें जीना होगा। लेकिन डेविड की पत्नी जानती है कि यह पॉसिबल नहीं है। इसलिए वह डेविड को कहती है कि तुम्हें हमारे बेटे को साउथ ले जाना होगा।

दरअसल इन्होंने सुना है कि साउथ में अभी भी एक ऐसी बस्ती है जहां पर इंसान रहते हैं। जहां पर इंसान सुरक्षित हैं। लेकिन प्रॉब्लम यह होती है कि इनके पास इतना राशन नहीं है कि तीनों उस सफर पर निकल सके।

इसीलिए डेविड की पत्नी उसे गन देती है। वह कहती है कि मैं तुम्हारे साथ नहीं जा सकती। अगर कोई मुसीबत आए तो तुम दोनों अपने आप को गोली से मार लेना। वह अपना गरम कोट और अपनी टोपी उतार देती है।

दरअसल यहां पर बहुत ज्यादा ठंड होती है। वह अपनी जान देना चाहती है। डेविड उससे बहुत अनुरोध करता है। वह कहता है कि एक रात और रुक जाओ, क्योंकि वह अपनी पत्नी के साथ एक और रात गुजारना चाहता है।

डेविड की पत्नी कहती है कि नहीं, अब यह पॉसिबल नहीं है। वह जंगल में अंधेरे में ही अपने गर्म कपड़े को घर में छोड़कर निकल जाती है। यानी कि उसने अपनी जान दे दी। डेविड इतना मजबूर था, कि वह चाह कर भी अपनी पत्नी की मदद नहीं कर पाया।

कहानी वापस प्रजेंट में आती है। डेविड और उसका बेटा अपना आगे का सफर तय करते हैं। इन्हें किसी भी कीमत पर साउथ तक पहुंचना होगा। ताकि यह वहां पर आसरा ले सके।

अब रास्ते में इन्हें एक घर दिखता है। डेविड और उसका बेटा उस घर के अंदर जाते हैं। वहां पर खाने के बर्तन पड़े होते हैं। डेविड को किसी भी कीमत पर खाना चाहिए। तभी वह देखता है कि टेबल के नीचे एक तहखाना है। वह समझ जाता है कि यहां पर खाना होगा। यह उस तहखाने का दरवाजा खोलकर नीचे पहुंच जाता है। वह देखता है, कि वहां पर बहुत सारे इंसानों को बंदी बनाकर रखा गया है।

डेविड जल्दी से अपने बेटे के साथ ऊपर वापस आ जाता है। इससे पहले कि दोनों घर से बाहर निकलते, बाहर वे लोग दिखाई देते हैं जिनका यह घर है। इन सब के पास बंदूके होती है। डेविड और उसका बेटा ऊपर चले जाते हैं।

डेविड जानता है कि अगर हम लोग इन आदमखोर लोगों के हाथ लग गए तो उनका क्या हश्र होगा। डेविड अपने बेटे के सिर पर गन तान देता है। क्योंकि वह उसको एक अच्छी मौत देना चाहता है। इससे पहले कि वह अपने बेटे को गोली मारता तहखाने का दरवाजा ऊपर की तरफ खुलना शुरू हो जाता है। उस घर के जितने भी सदस्य होते हैं सब उस जगह पहुंचना शुरू कर देते हैं।

तभी डेविड को मौका मिल जाता है घर से निकलने का। वह झाड़ियों के पीछे छुप जाता है। तभी उस घर के दो सदस्य बाहर आते हैं। अपनी दूरबीन से चारों तरफ देखते हैं, कि यहां से कि कोई भागा तो नहीं है।

लेकिन उन्हें वहां पर कोई भी नहीं दिखता। डेविड और उसका बेटा रात तक वहीं पर छुपे रहते हैं। इसके बाद वे लोग वहां से निकल कर एक सुरक्षित जगह पर पहुंच जाते हैं। डेविड की हिम्मत धीरे-धीरे जवाब दे रही है। क्योंकि उनका खाना खत्म हो चुका है।

जब वे लोग आगे जाते हैं तो उन्हें रास्ते में एक घर दिखता है। डेविड उस घर में खाने की तलाश में जाता है। लेकिन उसे वहां पर खाना नहीं मिलता। जब यह घर के पीछे जाता है तो उसे वहां पर एक ढक्कन दिखता है। जब वह ढक्कन को खोलकर नीचे जाता है, तो वह एक छुपा हुआ कमरा होता है, जहां पर ढेर सारा खाना होता है बल्कि यहां पर रहने की खाने की पीने की हर तरह की सुविधा होती है।

यह देखकर डेविड खुश हो जाता है। आज डेविडऔर उसके बेटे ने कई महीनों के बाद भरपेट खाना खाया है। दोनों यहां पर अपने हुलिए को भी ठीक कर लेते हैं। रात को जब यह लोग यहां पर होते हैं तो इन्हें एहसास होता है कि ऊपर कोई है। डेविड कहता है, कि हमें यहां से निकलना होगा यह जगह सुरक्षित नहीं है।

अगली सुबह डेविड और उसका बेटा वहां से बहुत सारा खाना लेकर आगे निकल पड़ते हैं। जब वे लोग रास्ते में जा रहे होते हैं तो उन्हें एक आदमी दिखता है। इनकी आवाज सुनकर वह आदमी पीछे पलट ता है। वह आदमी कहता है कि तुम मेरा पीछा क्यों कर रहे हो।

डेविड कहता है कि हम आपका पीछा नहीं कर रहे हैं। बूढ़ा आदमी कहता है कि मेरे पास तुम्हारे लिए कुछ भी नहीं है। वह अपना बैग डेविड की तरफ फेंक देता है।

डेविड कहता है कि हम डकैत नहीं हैं। बूढ़े आदमी की हालत बहुत ज्यादा खराब होती है। डेविड का बेटा कहता है कि क्या हम इसे खाने के लिए कुछ दे दे।

हालांकि डेविड शुरू में मना करता है लेकिन वह उस बूढ़े आदमी को खाना दे देता है। डेविड को विश्वास हो जाता है कि वह बूढ़ा आदमी इनकी तरह एक मुसाफिर है।

रात को तीनों डिनर करते हैं। बूढ़ा आदमी कहता है कि जब मैंने तुम्हारे बेटे को देखा तो मुझे लगा कि यह कोई एंजेल है। क्योंकि कई सालों से मैंने किसी बच्चे को नहीं देखा। मेरा भी एक बेटा था जिसे दूसरे लोगों ने मार दिया।

सुबह में बूढ़ा आदमी वहां से अकेले ही निकल जाता है। डेविड और उसका बेटा साउथ की तरफ बढ़ना शुरू कर देते हैं। डेविड की अब तबीयत भी खराब होना शुरू हो जाती है। लेकिन वह अपनी आशा नहीं खोता। वह कहता है कि हम समुद्र से बहुत पास हैं। हम नक्शे के सहारे ही साउथ की तरफ बढ़ेंगे।

जब यह समुद्र के पास पहुंचते हैं तो वहां पर समुद्र का रंग नीला नहीं होता बल्कि काला होता है। और ना ही कभी आसमान में सूरज दिखता है। डेविड अपने दूरबीन से समुद्र के अंदर देखता है तो उसे वहां पर एक जहाज दिखता है। डेविड अपने बेटे को रिवाल्वर देता है और कहता है कि तुम मेरा यहीं पर इंतजार करना।

वह तैरता हुआ समुद्र में जहाज की तरफ निकल पड़ता है। डेविड का बेटा यहां पर सो जाता है। तभी यहां पर किसी के पैर दिखाए जाते हैं। कुछ देर बाद जब डेविड का बेटा उठता है तो वह देखता है कि उसके चारों तरफ कुछ भी नहीं है। उसका सारा सामान कोई चोरी करके ले गया। डेविड जहाज से वापस आ चुका होता है। उसके पास कुछ सामान है जो वह जहाज से लेकर आया है।

वह देखता है कि उनका सारा सामान चोरी हो चुका है। हालांकि रिवाल्वर अभी भी डेविड के बेटे के पास है। यहां पर डेविड के जूते भी चोरी हो चुके हैं। वह अपने बेटे को कंधे पर उठाता है और उस तरफ भागता है, जिस तरफ वह आदमी सामान लेकर भागता है। वह आदमी इन्हें दिख जाता है। जो ट्रॉली में समान लेकर जा रहा होता है।

डेविड को रास्ते में चलने बहुत परेशानी हो रही है। क्योंकि उसके पैर में जूते नहीं है। लेकिन किसी तरह से वह उस आदमी तक पहुंच जाता है। अपनी बंदूक उस पर तान देता है। उस आदमी के हाथ में भी बंदूक होती है लेकिन वह डरा हुआ है।

डेविड कहता है कि मेरे कपड़े उतारो मेरे जूते मुझे वापस दो। नहीं तो मैं तुम्हें गोली मार दूंगा। डेविड का बेटा कहता है कि पिताजी ऐसा मत करना। वह आदमी कहता है कि अपने बेटे की बात सुनो। लेकिन डेविड उससे अपना सारा सामान वापस लेना चाहता है। उस आदमी को उसे सब कुछ देना पड़ता है। वह आदमी कहता है कि मैं भूखा हूं, मैं मर जाऊंगा।

लेकिन डेविड उसकी एक बात नहीं सुनता। ट्रॉली लेकर वह वहां से निकल जाता है। डेविड का बेटा अपने पिता से नाराज है। वह कहता है कि हमें उसकी मदद करनी चाहिए। वह डरा हुआ है उसे खाने की जरूरत है। डेविड अपने बेटे की बात मान जाता है।

वह वापस उसी जगह पर जाता है, लेकिन वह आदमी वहां पर नहीं था। वह उस आदमी के लिए कपड़े और खाना रखकर आगे निकल जाता है। जब यह लोग एक घर के आगे से निकलते हैं तो इनके ऊपर कोई तीर चलाता है।

डेविड और उसका बेटा ट्रॉली के पीछे छुप जाते हैं। लेकिन दूसरा तीर डेविड के पैर पर आकर लगता है।

डेविड जब जहाज के अंदर गया था तो वहां से एक फ्लेयर गन लाया था। वह उस गन से खिड़की के अंदर निशाना लगाता है जहां से तीर चल रहे है। उसका निशाना बिल्कुल सही जगह पर लगता है।

अब डेविड उस घर के अंदर जाता है। वह देखता है कि जिस फ्लेयर गन से उसने निशाना लगाया था वह आदमी मर चुका है। वहां पर एक औरत भी होती है। दरअसल यहां पर हर एक इंसान को ऐसा लगता है कि सब उनका पीछा कर रहे हैं लेकिन ऐसा नहीं होता। डेविड अपने पैर मैं लगे तीर को निकाल रहा है।

वह अपने पैर को किसी तरह से बंधता है। लेकिन डेविड की हालत बहुत ज्यादा खराब होती है। उसे चलने में बहुत प्रॉब्लम हो रही होती है। वह अपने बेटे से कहता है कि मैं अब ट्रॉली को नहीं खींच सकता। हमें ट्रॉली को यहीं पर छोड़ना होगा।

अपने जरूरत की चीजों को एक बैग में डाल लेते हैं। लेकिन डेविड बहुत ज्यादा आगे तक नहीं चल पाता। कुछ दूर चलने के बाद वह समुद्र के किनारे एक जगह पर गिर जाता है।

अगली सुबह डेविड को दिखाया जाता है अब उसके अंदर चलने की शक्ति नहीं है। वह अपने बेटे को बोलता है कि तुम्हें आगे का सफर खुद तय करना होगा। तुम्हें साउथ की तरफ जाना है। डेविड का बेटा अपने पिता से पूछता है। कि हमे साऊथ की तरफ क्यों जाना है। डेविड कहता है कि इस कहानी का अंत वही होगा।

उसका बेटा कहता है कौन सी कहानी किसका अंत। डेविड उसे एक किताब देता है और कहता है कि इस किताब का सिर्फ पहला चैप्टर पड़ना और अंत में जो लिखा है वैसा ही करना। उसके बाद तुम वही पहुंच जाओगे जहा हम पहले थे।

इस मनहूस किताब की वजह से ही हम इस किताब की कहानी के पात्र बन गए  हैं  जो कोई इस किताब को पढ़ता है। उसकी ज़िंदगी फिर इसकी कहानी के हिसाब से चलती है।

जैसे ही तुम अपनी ज़िंदगी में वापस पहुंच जाओ तो इस किताब को ऐसी जगह पर छिपा देना की भविष्य में किसी को न मिले।

अंत अभी बाकी है…. इसे पढ़ें: Haunted Book: Chapter 2 – Sapno ki Duniya

Share this post if you found helpful!